Bharat Ratna India’s highest civilian award 1954 – 2024

भारत रत्न: उत्कृष्टता को मान्यता देने वाला भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार Bharat Ratna India’s highest civilian award 1954 – 2024 

1954 में स्थापित भारत रत्न, भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है। यह उन व्यक्तियों को दिया जाता है जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में असाधारण योगदान दिया है और देश को बहुत गौरव दिलाया है। राष्ट्र के प्रति उत्कृष्ट उपलब्धियों और सेवा को मान्यता देते हुए, भारत रत्न सर्वोच्च सम्मान का प्रतिनिधित्व करता है जो भारतीय गणराज्य में किसी व्यक्ति को दिया जा सकता है।

भारत रत्न पुरस्कार विजेताओं की सूची: Bharat Ratna India’s highest civilian award 1954 – 2024 

भारत रत्न उत्कृष्टता को मान्यता देने वाला भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार Bharat Ratna India's highest civilian award

1. सी. राजगोपालाचारी (1954): भारत रत्न

राजाजी के नाम से लोकप्रिय, चक्रवर्ती राजगोपालाचारी भारत रत्न के पहले प्राप्तकर्ता थे। वह एक प्रख्यात राजनीतिज्ञ, स्वतंत्रता सेनानी और भारत के अंतिम गवर्नर-जनरल थे।

2. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (1954): भारत रत्न

प्रसिद्ध दार्शनिक और विद्वान डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने भारत के दूसरे राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया और भारतीय दर्शन और संस्कृति के एक प्रमुख वकील थे।

3. सी. वी. रमन (1954):

सर चन्द्रशेखर वेंकट रमन, जिन्हें सी. वी. रमन के नाम से जाना जाता है, एक नोबेल पुरस्कार विजेता भौतिक विज्ञानी थे। उन्होंने रमन प्रभाव की खोज की, जिससे प्रकाशिकी और स्पेक्ट्रोस्कोपी के क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति हुई।

4. भगवान दास (1955):

भगवान दास एक स्वतंत्रता सेनानी, समाज सुधारक और लेखक थे। उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और समाज के वंचित वर्गों के उत्थान के लिए अथक प्रयास किया।

5. एम. विश्वेश्वरैया (1955):

सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया एक प्रख्यात इंजीनियर, राजनेता और विद्वान थे। उन्होंने बुनियादी ढांचे के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया और भारत में कई प्रमुख परियोजनाओं की योजना और निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

6. जवाहरलाल नेहरू (1955):

भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने देश के स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्र निर्माण के प्रारंभिक वर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह एक दूरदर्शी नेता थे जिन्होंने आधुनिक और लोकतांत्रिक भारत की नींव रखी।

7. गोविंद बल्लभ पंत (1957):

गोविंद बल्लभ पंत एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और आधुनिक भारत के प्रमुख वास्तुकारों में से एक थे। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और देश की नीतियों को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

8. धोंडो केशव कर्वे (1958):

धोंडो केशव कर्वे, जिन्हें महर्षि कर्वे के नाम से भी जाना जाता है, एक समाज सुधारक और शिक्षक थे। उन्होंने अपना जीवन महिलाओं की शिक्षा के लिए समर्पित कर दिया और भारतीय समाज में विधवाओं के उत्थान के लिए काम किया।

9. बिधान चंद्र रॉय (1961):

बिधान चंद्र रॉय एक प्रसिद्ध चिकित्सक और राजनेता थे। उन्होंने पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और चिकित्सा और सार्वजनिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

10. पुरूषोत्तम दास टंडन (1961):

पुरूषोत्तम दास टंडन एक स्वतंत्रता सेनानी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक प्रमुख नेता थे। उन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

11. राजेंद्र प्रसाद (1962):

प्रसिद्ध वकील और राजनेता डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण और देश के राष्ट्र निर्माण के शुरुआती वर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

12. जाकिर हुसैन (1963):

प्रख्यात शिक्षाविद् डॉ. जाकिर हुसैन ने भारत के तीसरे राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया और अंतरधार्मिक सद्भाव और शांति के प्रमुख समर्थक थे।

13. पांडुरंग वामन काणे (1963):

पांडुरंग वामन काणे एक प्रसिद्ध विद्वान और इतिहासकार थे। उन्हें प्राचीन हिंदू कानूनी प्रणाली, धर्मशास्त्र के इतिहास पर उनके मौलिक काम के लिए जाना जाता है।

14. लाल बहादुर शास्त्री (1966):

भारत के दूसरे प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्र निर्माण के प्रारंभिक वर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह एक दूरदर्शी नेता थे जिन्होंने भारत की हरित क्रांति और खाद्य आत्मनिर्भरता की नींव रखी।

15. इंदिरा गांधी (1971):

भारत की पहली महिला प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी को उनके असाधारण नेतृत्व और राष्ट्र के प्रति योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। गांधी ने अपने कार्यकाल के दौरान भारत की नीतियों और शासन को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आर्थिक विकास, सामाजिक कल्याण और राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति उनके प्रयासों ने राष्ट्र पर स्थायी प्रभाव छोड़ा।

भारत रत्न उत्कृष्टता को मान्यता देने वाला भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार Bharat Ratna India's highest civilian award

16. वी. वी. गिरि (1975):

प्रसिद्ध श्रमिक नेता और राजनेता वी. वी. गिरि ने भारत के चौथे राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। उन्होंने भारत में श्रम कानूनों और नीतियों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

17. के. कामराज (1976):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता के. कामराज ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्र-निर्माण के शुरुआती वर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और राज्य के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

18. मदर टेरेसा (1980):

कैथोलिक नन और मिशनरी मदर टेरेसा को भारत में गरीबी और पीड़ा को कम करने में उनके असाधारण योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। उन्होंने एक धार्मिक मंडली मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी की स्थापना की

19. विनोबा भावे (1983):

विनोबा भावे एक प्रमुख समाज सुधारक और गांधीवादी थे। उन्होंने भूदान आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसका उद्देश्य अमीरों से गरीबों को भूमि का पुनर्वितरण करना था।

20. खान अब्दुल गफ्फार खान (1987):

खान अब्दुल गफ्फार खान, जिन्हें सीमांत गांधी के नाम से जाना जाता है, एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक थे। उन्होंने पश्तून स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और समाज के वंचित वर्गों के उत्थान के लिए अथक प्रयास किया।

21. एम. जी. रामचन्द्रन (1988):

एम. जी. रामचन्द्रन, जिन्हें एमजीआर के नाम से जाना जाता है, एक प्रमुख अभिनेता और राजनीतिज्ञ थे। उन्होंने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और राज्य के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

22. बी.आर. अम्बेडकर (1990):

प्रसिद्ध न्यायविद्, समाज सुधारक और भारतीय संविधान के वास्तुकार डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया। उन्होंने दलितों और भारतीय समाज के अन्य वंचित वर्गों के सामाजिक और राजनीतिक सशक्तिकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

23. नेल्सन मंडेला (1990):

दक्षिण अफ्रीका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति और रंगभेद विरोधी आंदोलन के वैश्विक प्रतीक नेल्सन मंडेला को मानवाधिकारों और सामाजिक न्याय में उनके असाधारण योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

24. राजीव गांधी (1991):

भारत के छठे प्रधान मंत्री राजीव गांधी ने अपने कार्यकाल के दौरान भारत की नीतियों और शासन को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने भारत के सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र के विकास और देश के आर्थिक उदारीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

25. वल्लभभाई पटेल (1991):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता सरदार वल्लभभाई पटेल ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्र निर्माण के शुरुआती वर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने भारत के पहले उपप्रधानमंत्री और गृह मंत्री के रूप में कार्य किया और रियासतों के एकीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

26. मोरारजी देसाई (1991):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता मोरारजी देसाई ने भारत के चौथे प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने देश के शासन में महत्वपूर्ण योगदान दिया और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

27. अबुल कलाम आज़ाद (1992):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और विद्वान मौलाना अबुल कलाम आज़ाद ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्र-निर्माण के शुरुआती वर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने भारत के पहले शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया और देश की शिक्षा नीतियों में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

28. जे. आर. डी. टाटा (1992):

प्रसिद्ध उद्योगपति और परोपकारी जे. आर. डी. टाटा ने भारत के विमानन उद्योग के विकास और देश की आर्थिक वृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने भारत के सबसे बड़े समूह में से एक, टाटा समूह के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।

29. सत्यजीत रे (1992):

प्रसिद्ध फिल्म निर्माता और लेखक सत्यजीत रे को व्यापक रूप से भारत के सबसे महान सांस्कृतिक प्रतीकों में से एक माना जाता है। उन्होंने भारतीय सिनेमा के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया और उन्हें मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

30. गुलज़ारीलाल नंदा (1997):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता गुलज़ारीलाल नंदा ने दो बार भारत के अंतरिम प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने देश के शासन में महत्वपूर्ण योगदान दिया और भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

 

31. अरुणा आसफ अली (1997):

अरुणा आसफ अली, एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी, ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और भारत छोड़ो आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह महिलाओं के अधिकारों और सामाजिक न्याय की प्रबल समर्थक थीं।

32. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम (1997):

डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम, जिन्हें “भारत के मिसाइल मैन” के नाम से जाना जाता है, एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक और भारत के 11वें राष्ट्रपति थे। उन्होंने भारत के मिसाइल और अंतरिक्ष कार्यक्रमों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। विज्ञान, शिक्षा और युवा सशक्तिकरण के प्रति कलाम का समर्पण पीढ़ियों को प्रेरित करता रहता है।

33. एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी (1998):

प्रसिद्ध कर्नाटक गायिका एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी को भारतीय शास्त्रीय संगीत में उनके असाधारण योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया। यह सम्मान पाने वाली वह पहली संगीतकार थीं।

34. चिदम्बरम सुब्रमण्यम (1998):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता, चिदंबरम सुब्रमण्यम ने भारत की कृषि नीतियों और देश की खाद्य आत्मनिर्भरता के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

35. जयप्रकाश नारायण (1999):

एक प्रमुख समाज सुधारक और राजनेता, जयप्रकाश नारायण ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्र-निर्माण के प्रारंभिक वर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वह लोकतंत्र, सामाजिक न्याय और मानवाधिकारों के प्रबल समर्थक थे।

36. रविशंकर (1999):

प्रसिद्ध सितारवादक और संगीतकार रविशंकर को व्यापक रूप से भारत के सबसे महान सांस्कृतिक प्रतीक चिन्हों में से एक माना जाता है। उन्होंने भारतीय शास्त्रीय संगीत के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया और अंतरसांस्कृतिक समझ और शांति के प्रमुख समर्थक थे।

37. अमर्त्य सेन (1999):

नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने कल्याण अर्थशास्त्र और सामाजिक विकल्प सिद्धांत के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वह हुमा के एक प्रमुख वकील थे

38. गोपीनाथ बोरदोलोई (1999):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता गोपीनाथ बोरदोलोई ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और असम के एकीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने असम के पहले मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और राज्य के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

39. लता मंगेशकर (2001):

प्रसिद्ध पार्श्व गायिका लता मंगेशकर को भारतीय संगीत में उनके असाधारण योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया। वह भारत के फिल्म उद्योग में सबसे प्रसिद्ध और प्रभावशाली गायिकाओं में से एक हैं।

40. बिस्मिल्लाह खान (2001):

प्रसिद्ध शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वह अंतरधार्मिक सद्भाव और शांति के प्रमुख समर्थक थे।

41. भीमसेन जोशी (2008):

प्रसिद्ध हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायक पंडित भीमसेन जोशी को भारतीय संगीत में उनके असाधारण योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया। उन्हें व्यापक रूप से भारत के महानतम संगीतकारों में से एक माना जाता था।

42. सचिन तेंदुलकर (2014):

प्रसिद्ध क्रिकेटर और खेल आइकन सचिन तेंदुलकर को भारतीय क्रिकेट और खेल में उनके असाधारण योगदान के लिए भारत रत्न से सम्मानित किया गया। उन्हें सर्वकालिक महानतम क्रिकेटरों में से एक माना जाता है।

43. मदन मोहन मालवीय (2015):

एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और शिक्षाविद् पंडित मदन मोहन मालवीय ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम और भारतीय शिक्षा के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने भारत के प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों में से एक, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना की।

44. अटल बिहारी वाजपेयी (2015):

एक प्रमुख राजनेता और राजनीतिज्ञ अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत के 10वें प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने देश के शासन में महत्वपूर्ण योगदान दिया और भारत के बुनियादी ढांचे और अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

45. नानाजी देशमुख (2019):

एक प्रमुख समाज सुधारक और शिक्षाविद् नानाजी देशमुख ने भारत में ग्रामीण क्षेत्रों के विकास और महिलाओं के सशक्तिकरण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वह स्वदेशी ज्ञान को बढ़ावा देने और सतत विकास के प्रबल समर्थक थे।

47. प्रणब मुखर्जी (2019):

एक प्रमुख राजनेता और राजनेता प्रणब मुखर्जी ने भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। उन्होंने देश के शासन में महत्वपूर्ण योगदान दिया और भारत की अर्थव्यवस्था और विदेश नीति के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

48. भूपेन हजारिका (2019):

प्रसिद्ध गायक और संगीतकार भूपेन हजारिका ने भारतीय संगीत और संस्कृति के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वह अंतरसांस्कृतिक समझ और शांति के प्रबल समर्थक थे।

49. कर्पूरी ठाकुर (2024):

50. एल. के. अडवाणी (2024):

निष्कर्ष: Bharat Ratna India’s highest civilian award 1954 – 2024 

भारत रत्न एक प्रतिष्ठित सम्मान है जो उन व्यक्तियों को मान्यता देता है जिन्होंने अपने संबंधित क्षेत्रों में असाधारण योगदान दिया है और भारत को गौरव दिलाया है। प्रसिद्ध वैज्ञानिकों से लेकर दूरदर्शी नेताओं, समाज सुधारकों, कलाकारों और खेल आइकनों तक, इस पुरस्कार के प्राप्तकर्ताओं ने देश के इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी है। भारत रत्न पीढ़ियों को प्रेरित और प्रेरित करता रहता है, उन्हें उत्कृष्टता के लिए प्रयास करने और भारत की प्रगति और विकास में योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करता है।

#STORYBEHINDSUCCESS

STORY BEHIND SUCCESS

Leave a Comment